गौशाला योजना खोलिए हर महीने 1.80 लाख रुपए कमाइए gaushala Registration Form

गौशाला योजना : गौशालाओं के विकास के लिए केंद्र व राज्य सरकार द्वारा समय-समय पर कई प्रकार की योजनाओं का प्रारंभ किया जाता है। इसी तरह उत्तर प्रदेश राज्य सरकार के द्वारा गौशाला योजना की शुरुआत की गयी है। आज हम हमारे इस लेख में गौशाला योजना के बारे मैं बात करने जा रहे हैं।  जिसमे प्रदेश के गौशालाओं के विकास के लिए आर्थिक रुप से साहयता प्रदान की जायेगी। गौशाला योजना से सम्बंधित सभी प्रकार की महतवपूर्ण जानकारी इस लेख में हम आपको विस्तार से बताएंगे।

हम जानेंगे गौशाला योजना के  उद्देश्य, लाभ, विशेषताएं, पात्रता मानदंड, required documents, आवेदन करने की process आदि। जो भी इच्छुक व्यक्ति इस गौशाला योजना का लाभ उठाना चाह रहे है वह इस लेख को अच्छे से पढ़े व समझे।

गौशाला योजना

 गौशाला योजना क्या है:-

यूपी सरकार द्वारा  गौशाला अधिनियम 1964 को सम्पूर्ण राज्य में लागू किया गया। जिससे प्रदेश में स्थित कम से कम 498 गौशालाओं का श्रेष्ठ प्रबंध किया जाने वाला है। राज्य सरकार के द्वारा इन सभी गौशालाओं को लाभ दिलवाने के लिए कई प्रकार के योजनाओं का संचालन किया जाता है। इन योजनाओं के माध्यम से गौशालाओं के विकास के लिए वित्तीय सहायता  की जाती है। इस गौशाला योजना के तहत गौशालाओं में काम करने वाले नागरिकों को प्रशिक्षण की सुविधा भी दी जाती है। गौशला योजना से मिलने वाले लाभों को प्राप्त करने के लिए गौशाला प्रबंधकों को अपने गौशाला का पंजीकरण प्रादेशिक गौशाला पंजीकरण प्रणाली करवाना आवश्यक होता है। 

 

गौशाला योजना  का उद्देश्य:-

राज्य की सरकार के द्वारा आरंभ की गयी गौशाला योजना का प्रमुख उद्देश्य प्रदेश में स्थित हर एक गौशालाओं का विकास कराना है। गौशाला योजना के अंदर गौशालाओं के श्रेष्ठ प्रबंधन के लिए वित्तीय रुप से सहायता की जाती है अथवा साथ ही गौशालाओं में कार्य करने वाले लोगों को प्रशिक्षण की सुविधा भी दी जाती है। गौशाला का विकास होगा तो रोजगार के अवसर भी लोगो को प्राप्त होगें। जिससे बेरोजगार नागरिकों को रोजगार की सुविधा भी मिल जायेगी।

 

गौशाला निर्माण के लिए अनुदान राशि:-

मुख्यमंत्री माननीय योगी आदित्यनाथ जी के द्वारा प्रारंभ की गई गौशाला योजना के अंतर्गत लाभार्थीयों को गौशाला निर्माण के लिए राज्य सरकार द्वारा अनुदान राशि उपलब्ध की जाती है। गौशाला योजना के माध्यम से सरकार लाभार्थी को प्रतिदिन हर एक गाय पर 30 रूपये प्रदान करती है। राज्य सरकार की इस गौशाला योजना के तहत उम्मीदवारों को हर महीने 18 हजार रुपये तक की राशि दी जाती है। इस दी गई राशि की सहायता से प्रबंधकों को  पशुओ के खाने, पानी, मेडिकल आदि की व्यवस्था करनी होती हैं। 

Key Highlights Of UP Gaushala Yojana 2023

योजना का नाम यूपी गौशाला योजना
किसने आरंभ की उत्तर प्रदेश सरकार
लाभार्थी प्रदेश में स्थित गौशाला
उद्देश्य प्रदेश में स्थित गौशालाओं का विकास करना
आधिकारिक वेबसाइट http://ahgoshalareg.up.gov.in/
साल 2023
आवेदन का प्रकार ऑनलाइन
राज्य उत्तर प्रदेश

गौशाला योजना की विशेषताएं:-

गौशाला योजना  का आरंभ यूपी राज्य सरकार द्वारा किया गया। जिसके अंदर प्रदेश की सारी गौशालाओं को लाभान्वित किया जाता है।

  1. गौशाला योजना को संचालित करने के लिए राज्य सरकार के द्वारा सम्पूर्ण प्रदेश में यूपी गौशाला अधिनियम 1964 लागू किया गया।
  2. अभी तक यूपी में कम से कम 498 गौशालाएँ उपस्थीत है, जिनके प्रबंधन का कार्य गौशाला योजना के तहत किया जाने वाला है।
  3. राज्य सरकार की इस गौशाला योजना के तहत मिलने वाले लाभों को प्राप्त करने के लिए सभी गौशालाओं को पंजीकृत होना अनिवार्य है।
  4. उत्तर प्रदेश की सरकार के द्वारा गौशालाओं का पंजीकरण प्रदेशित गौशाला पंजीकरण प्रणाली, उत्तर प्रदेश के अंतर्गत किया जाने वाला है।
  5. मुख्यमंत्री जी द्वारा प्रारंभ की गई यह गौशाला योजना के माध्यम से प्रदेश में स्थित गौशालाओं का विकास  करने के लिए वित्तीय सहायता दी जाती है।
  6. इस गौशाला योजना के अंतर्गत गौशालाओं के श्रेष्ठ प्रबंधन के लिए गौशालाओं में काम करने वाले नागरिकों को प्रशिक्षण की सुविधा भी उपलब्ध कराई जाती है।
  7. गौशाला योजना के तहत उम्मीदवारों से online आवेदन भी  किए गए है। जिससे  नागरिकों का समय भी बचेगा और घर बैठे बैठे आवेदन भी कर सकते हैं।
  8. इन सभी चीजों के साथ ही पेसो की भी बचत होगी।

 

गौशाला योजना के लिए पात्रता:-

यूपी सरकार के द्वारा शुरू की गई इस गौशाला योजना के अंतर्गत लाभ लेने के लिए प्रदेश के मात्र पंजीकृत गौशाला ही लाभ ले सकती हैं मतलब पंजीकृत गौशाला ही पात्रता योग्य हैं।

 

गौशाला योजना के लिए आवश्यक दस्तावेज:-

  • उम्मीदवारों के द्वारा गौशाला में रखी गई गायों के वंशो का विवरण प्रपत्र।
  • आवेदकों के गौशाला के लिए उपलब्ध भूमि से संबंधी अभिलेखों की प्रति।
  • संस्था के सोसाइटी पंजीकरण प्रमाण पत्र, उद्देश्य एवं नियमावली की photocopy।
  • अभिलेखों के रखरखाव, पत्राचार आदि के रख-रखाव के लिए अधिकृत न्याय के लेख/प्रस्ताव की एक प्रति।
  • गौशाला की वर्तमान समय के प्रबंधन समिति में उत्तरी अधिकारी को नियमित करने के लेख या प्रस्ताव की प्रति।
  • इसके अलावा गौशाला पंजीकरण के लिए संस्था की कार्यकारिणी के द्वारा प्रस्ताव की प्रति।
  • गौशाला के लिए खर्च का विवरण।
  • संस्था के कार्यकारी निकाय के द्वारा गौशाला के पंजीकरण के लिए प्रस्ताव की प्रति।
  • सोसायटी के bank account का विवरण।
  • गौशाला की स्थापना के संबंध में प्रस्ताव की प्रति।
  • समिति के पैन कार्ड और आधार कार्ड की photocopy।
  • घोषणा पत्र पर सभी अधिकारियों के हस्ताक्षर।

यह भी जाने – UP Ahilyabai Nishulk Shiksha Yojana

गौशाला योजना के लिए  registration process :-

 

  • सबसे पहले आपको प्रादेशिक गौशाला पंजीकरण प्रणाली, उत्तर प्रदेश की official website पर जाना है।
  •  अब आपके सामने website का home page open हो जाएगा।
  • यह आपको रजिस्ट्रेशन के option पर click करना है। अब आपको रजिस्ट्रेशन फॉर्म  दिखाईं देगा।
  • अब आपको इस registration form में मांगी गई  सभी जानकारी ध्यान पूर्वक भरना है, जैसे की:- गौशाला का नाम, स्थापना तिथि, जिला, आवेदक का नाम, पिता का नाम, आदि।
  • अब आपको Submit button  के option पर click करना है।
  • आपको आपके पंजीकृत मोबाइल नंबर पर एक यूजर आईडी एवं पासवर्ड मिल जायेगा।
  • इसके बाद  आपको अपने लॉगिन क्रेडेंशियल, जैसे की:- यूजर आईडी एवं पासवर्ड के विवरण भर के login कर लेना है।
  •  अब आपको screen  पर एक आवेदन पत्र दिखाईं पड़ेगा।
  • आपको अब इस आवेदन पत्र में मांगी गई  जानकारी को भरना है।
  • अब आपको मांगे गए सभी महत्त्वपूर्ण documents को अपलोड करना है।
  • अब आपको submit button पर click करना है। इसके  बाद आपका रजिस्ट्रेशन पूर्ण हो जाएगा।

 

सर्टिफिकेट वेरिफिकेशन करने की process :-

  • सबसे पहले आपको इसकी official website पर जाना है।
  • आपके सामने home page open हो जायेगा। 
  • Website के home page पर आपको verification के option पर click करना है।
  •  इसके बाद आपके सामने सर्टिफिकेट वेरिफिकेशन का नया page open हो  जायेगा।
  • इस page पर आपको अपने जनपद तथा प्रमाण पत्र संख्या के विवरण को दर्ज कर देना है।
  •  अब आपको Get Status के option पर click कर देना है, इसके  बाद आप सर्टिफिकेट वेरिफिकेशन कर पायेंगे।

 

Conclusion:-

आज का हमारा लेख  गौशाला योजना  पर था। इससे जुडी सारी जानकारी जैसे की आवेदन करने की process , आवश्यक documents, उद्देश्य, पात्रता आदि बतलाया है। यदि आप भी इस योजना का फायदा लेना चाहते हैं तो हमारे इस लेख को अच्छे से पढ़े और जानकारी ले। Process के लिए   दी गई steps को ध्यान से follow करे। गौशाला योजना का एक महतवपूर्ण लाभ है की यह रोजगार प्राप्त कराने मे सक्रिय साबित हो सकती है । इसे ज्यादा से ज्यादा शेयर भी जरूर करे।

Leave a Comment